जी.सी बोस यूनिवर्सिटी में अब विदेशी भाषाएँ भी सीख सकेंगे

डिजिटल लैब शुरू

फरीदाबाद, 6 फरवरी – जे.सी. बोस विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, वाईएमसीए फरीदाबाद ने इंजीनियरिंग विद्यार्थियों को अंग्रेजी भाषा के साथ-साथ अन्य विदेशी भाषाओं में दक्षता हासिल करने के लिए प्रेरित करने के उद्देश्य से डिजिटल लैंग्वेज लैब तथा मीडिया के विद्यार्थियों को और अधिक व्यावहारिक ज्ञान प्रदान करने के लिए मीडिया लैब स्थापित की है। कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने आज मानविकी विभाग में दोनों लैब विद्यार्थियों को समर्पित की।
कुलपति प्रो. दिनेश कुमार ने कहा कि बदलते वैश्विक परिदृश्य में बहुभाषी शिक्षा का महत्व काफी बढ़ गया है। डिजिटल लैंग्वेज लैब से विद्यार्थियों को अंग्रेजी भाषा में दक्षता हासिल करने के साथ-साथ अन्य विदेशी भाषाओं को सीखने में भी मदद मिलेगी। इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों के लिए अंग्रेजी में दक्षता के साथ-साथ अन्य विदेशी भाषाओं का ज्ञान उनके करियर का दायरा बढ़ा सकता है।
दोनों लैब को स्थापित करने पर लगभग 20 लाख रुपये की लागत आई है। इसी प्रकार, मीडिया लैब में पत्रकारिता के विद्यार्थियों के लिए जरूरी साॅफ्टवेयर उपलब्ध करवाये गये है, जिससे उन्हें वीडियो एडिटिंग तथा न्यूजपेपर डिजाइनिंग जैसे कार्यों में दक्षता हासिल होगी जोकि विद्यार्थियों के लिए बेहद जरूरी है।

एक समय में 30 विद्यार्थी कर सकेंगे उपयोग

इस अवसर पर मानविकी विभाग की अध्यक्ष डाॅ. पूनम सिंघल ने कुलपति को विभाग की विभिन्न गतिविधियों से अवगत करवाया। उन्होंने बताया कि लैंग्वेज लैब की मदद से विद्यार्थी न केवल विदेशी भाषा सीख सकते है अपितु साक्षात्कार के लिए जरूरी योग्यता तथा सामान्य ज्ञान भी बढ़ा सकते है। लैब में एक समय में 30 विद्यार्थी सुविधा का उपयोग कर सकते है और साॅफ्टवेयर की मदद उनके प्रदर्शन का मूल्यांकन भी किया जा सकता है।

मीडिया विद्यार्थियों को निष्पक्ष एवं विश्वसनीय रिपोर्टिंग के लिए प्रेरित करते हुए कुलपति ने कहा कि मीडिया लोकतंत्र का चैथा स्तम्भ माना जाता है, इसलिए मीडिया का निष्पक्ष एवं विश्वसनीय होना बेहद जरूरी है। मीडिया विद्यार्थियों को नैतिकता का वहन करते हुए निष्पक्ष, विश्वसनीय और विकासात्मक पत्रकारिता पर बल देना होगा और पत्रकारिता के उच्च मानदंड स्थापित करने होंगे।
विश्वविद्यालय के कैंपस विस्तार के लिए फरीदाबाद के गांव भाकरी में जमीन आवंटन की औपचारिक स्वीकृति मिलने पर प्रसन्नता जताते हुए कुलपति ने कहा कि जमीन आवंटन होने से विश्वविद्यालय की आकदमिक जरूरतें पूरी होंगी तथा शैक्षणिक गतिविधियों को बल मिलेगा।
इस अवसर पर मानविकी विभाग की अध्यक्ष डाॅ. पूनम सिंघल ने कुलपति को विभाग की विभिन्न गतिविधियों से अवगत करवाया। इस अवसर पर डीन (फैकल्टी आफ ह्यूमैनिटी) डाॅ. राज कुमार, मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के अध्यक्ष डाॅ. तिलक राज तथा विश्वविद्यालय के कई अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थिति थे।

Post Author: VOF Media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *