BCCI की एक चूक मितली पर पड़ी भारी

BCCI की एक चूक की वजह से भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मिताली राज राजीव गाँधी  खेल रत्न पुरस्कार पाने की दौड़ से बाहर हो गईं हैं। बीसीसीआई खेल मंत्रालय को मिताली का नाम देने में चूक कर गया। वुमंस वर्ल्ड कप में टीम इंडिया और मिताली के शानदार प्रदर्शन के बावजूद खेल रत्ने की दौड़ से बाहर होने से उनके फैन्स निराश हैं। दरअसल खेल रत्न के लिए बीसीसीआई को खेल मंत्रालय के पास प्लेयर्स की लिस्ट भेजनी होती है। इसके बाद बोर्ड पूरे क्रिकेट सीजन में अच्छी परफॉर्मेंस करने वाले प्लेयर्स की एक लिस्ट मंत्रालय को भेजता है

खेल रत्न और अर्जुन अवॉर्ड के लिए क्रिकेटर चेतेश्वर पुजारा, महिला क्रिकेटर हरमनप्रीत कौर, गोल्फर शिव चौरसिया, भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान सरदार सिंह, बॉक्सर मनोज कुमार, पैरालिम्पिक मैडलिस्ट, दीपा मलिक, देवेंद्र झाझरिया, मरियप्पन थगावेलू और वरुण सिंह भाटी समेत कुल 17 खिलाड़ियों के नाम शामिल हैं।

खेल मंत्रालय कर सकता है हस्तक्षेप
 अब मिताली के पास अवॉर्ड पाने का बस एक ही रास्ता है। अगर खेल मंत्रालय इस मामले में हस्तक्षेप करे, तभी मिताली को खेल रत्न मिलने की संभावना है। अब यह देखना होगा कि क्या, खेल मंत्री विजय गोयल  इस मुद्दे पर आगे क्या करते हैं।
  चयन कमेटी में सहवाग और पीटी ऊषा

खेल रत्न के चयन के लिए रिटायर्ड जस्टिस सीके ठक्कर की अध्यक्षता में बारह लोगों की एक कमेटी बनाई गए है। यही कमेटी फैसला करेगी कि इस साल किन-किन लोगों को खेल रत्न और अर्जुन अवॉर्ड दिया जाएगा। इस कमेटी में भारतीय टीम के पूर्व विस्फोटक बैट्समैन वीरेंद्र सहवाग और भारत की पूर्व दिग्गज एथलीट पीटी उषा भी शामिल हैं।

Post Author: Veethika Bhardwaj

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *