नए चैनल के किस एंकर के शो पर गाज गिराएंगे प्रसून

 पुण्य प्रसून बाजपेयी अब एबीपी न्यूज चैनल के साथ अपने पत्रकारिता करियर को आगे बढ़ा सकते हैं। हालांकि एबीपी की ओर से इस बात की आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। पर बड़ी बात ये है कि अगर पुण्य प्रसून एबीपी जॉइन करते हैं, तो फिर उनके शो के लिए एबीपी के किस एंकर के शो पर गाज गिरेगी।

पटना में पले-बढ़े पुण्य प्रसून ने स्नातक तक की पढ़ाई पटना से ही की। दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में इंटरनेशनल रिलेशन में एम.ए. करने के लिए उन्होंने दाखिला जरूर लिया, लेकिन उन्होंने बीच में ही इसे छोड़ दिया। पुण्य प्रसून बाजपेयी के पास प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में 30 साल से ज्यादा का अनुभव है। उन्हें दो बार पत्रकारिता का प्रतिष्ठित अवॉर्ड ‘रामनाथ गोयनका अवॉर्ड’ से नवाजा जा चुका है।

पहली बार 2005-06 में हिन्दी इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में उनके योगदान के लिए उन्हें यह पुरस्कार दिया गया, जबकि दूसरी बार वर्ष 2007-08 में हिंदी प्रिंट पत्रकारिता के लिए गोयनका अवॉर्ड से नवाजा गया। लोकमत’ में काम करना पत्रकारिता में पुण्य प्रसून की पहली नौकरी थी। ‘आजतक’ में उन्होंने तब काम करना शुरू किया था, जब एस.पी. सिंह इसके कर्ताधर्ता थे। एस.पी. सिंह के बाद भी लंबे समय तक प्रसून ‘आजतक’ में रहे।

 ‘आजतक’ में काम करने के दौरान ही प्रसून ऐसे पहले भारतीय टेलिविजन पत्रकार बन गए जिसमें पाक अधिकृत कश्मीर जाकर रिपोर्टिंग की हो। वे लश्कर-ए-तैयबा प्रमुख मोहम्मद हाफिज सईद का साक्षात्कार लेने में भी कामयाब रहे और ऐसा करने वाले वे पहले भारतीय पत्रकार बन गए। पुण्य प्रसून लाइव एंकरिंग की अपनी खास स्टाइल के चलते इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में प्रसिद्ध हैं। दिसंबर 2001 में संसद भवन पर हुए आतंकी हमले की लगातार 5 घंटों तक लाइव एंकरिंग करने के लिए भी पुण्य प्रसून को खूब प्रसिद्धि मिली।

वैसे प्रसून की खासियत है कि टेलिविजन पत्रकारिता में खासे लोकप्रिय होने के बाद भी जिस तरह से अभी भी वे पत्र-पत्रिकाओं में लिखते रहते हैं, वह उन्हें अलग श्रेणी में ला खड़ा करता है। ज्यादातर टेलिविजन पत्रकार प्रिंट मीडिया की ही देन हैं। एक बार टीवी में जाने के बाद ज्यादातर लोग टीवी के ही होकर रह गए, लेकिन पुण्य प्रसून बाजपेयी इसके उलट हैं। अभी देश में कुछ पत्रकार ऐसे हैं, जो जन सरोकार वाले मसलों पर खासे सजग रहते हैं और अपनी लेखनी के जरिए उन मसलों को उठाते हैं। प्रसून वैसे ही पत्रकार हैं।

पुण्य प्रसून के आजतक पर आने वाले शो ‘दस्तक’ का टाइम रात दस बजे का रहता था, ऐसे में एबीपी को अपने लोकप्रिय शो ‘घंटी बजाओ’ जिसे अनुराग मुस्कान एंकर करते हैं, उसे हटाना होगा।  ‘घंटी बजाओ’ लोकप्रिय है, ऐसे में ये भी हो सकता है कि रात नौ बजे दिबांग के शो ‘जन मन’ पर कैंची चल जाए, बताया जा रहा है कि आजकल ये शो भरपूर टीआरपी भी नहीं ला रहा है। या फिर आठ बजे या फिर सात बजे चुनावी शो जिसे चित्रा त्रिपाठी, अभिसार शर्मा या नेहा पंत एंकर करती हैं उसे किसी और टाइम पर प्रसारित किया जाए। यानी कुल मिलाकर प्रसून की एंट्री के बाद चित्रा हो या अनुराग, अभिसार हो या दिबांग किसी एक के शो का टाइम स्लॉट तो बदला ही जाएगा, ये तय माना जा रहा है।

Post Author: VOF Media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *