जाते-जाते कमाई, कमाते-कमाते विदाई

सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक भ्रष्टाचार का अड्डा
सौरभ भारद्वाज

सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक का भी भगवान ही मालिक है। भ्रष्टाचार अपने चरम पर है। चेयरमैन डॉ. एम.पी.सिंह का 7 जून 2018 को तत्काल प्रभाव से तबादला कर दिया गया। तबादला आदेश में साफ लिखा था कि सभी संबंधित अधिकारी तुरंत अपना पद छोड़ दें और अधिकतम 11 जून 2018 तक अपने नए कार्यालय में पद ग्रहण करें बिना मुख्यालय के लिखित आदेश की प्रतिक्षा किए।

इन आदेशों की धज्जियां उड़ाते हुए 8 जून 2018 को प्रमोशन प्रक्रिया स्केल-3 से 4 के इंटरव्यू रखे और सूत्रों के मुताबिक जिन को दोपहर दो बजे इंटरव्यू करना था उनको भी सुबह 11 बजे इंटरव्यू के लिए बुला लियागया। आरोप है कि इस प्रमोशन से होने वाली कमाई का लालच इतना बड़ा था कि आनन- फानन में इस इंटरव्यू प्रक्रिया को पूरा करने की कोशिश की गई।

जाते जाते मलाई चाटने की कोशिश

सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक के चेयरमैन बदले जाने के लिए 4 जून 2018 को पीएनबी मुख्यालय में साक्षात्कार आयोजित किए गए। जैसे ही निवर्तमान चेयरमैन डॉ. एम.पी.सिंह को पता चला कि नए चेयरमैन जल्दी ही आने वाले हैं उसने अगले दिन 5 जून 2018 को बैंक की सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक की सबसे बड़ी पोस्टों पर अपने चहेतों को बैठाने की नियत से 58 कर्मचारियों की एक लिस्ट जारी की और उन्हें 7 और 8 जून 2018 को इंटरव्यू के लिए आमंत्रित कर लिया। सूत्रों के मुताबिक जैसे ही पीएनबी के आला अधिकारियों को इस करतूत की शिकायत पहुुंची उन्होंने तुरंत प्रभाव से चेयरमैन डॉ. सिंह का तबादला मुजफ्फर नगर में सर्कल हेड के रूप में कर दिया।

लेकिन चेयरमैन इसकी भी परवाह किए बिना लगातार इंटरव्यू करते रहे और 8 जून को भी अवैध रूप से इंटरव्यू करते रहे और जिन्हें दो बजे इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था उन्हें भी फोन करके सुबह 11 बजे ही बुला लिया गया। जब एक बार फिर इस करतूत की शिकायत हुई तो एमपी सिंह को बिना रिजल्ट आउट किए दिल्ली हेड ऑफिस भागना पड़ा।

होता रहा है ऐसा भ्रष्टाचार

2014 में भी बैंक के अधिकारियों ने नियमों को तोड़-मरोड़ कर इंटरव्यू लिए थे जिसके बाद पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने उन नतीजों को रिव्यू करने के आदेश दिए थे। भारत सरकार की ओर से भी ऐसे ही आदेश दिए गए थे। लेकिन चेयरमैन पद पर रहते हुए डॉ. एम.पी.सिंह ने उन्हें नहीं माना।

जब इस सिलसिले में डॉ. एम पी. सिंह से बात की गई तो उनका कहना था कि इंटरव्यू की तारीखें पहले से डिसाइड हो चुकी थीं उन्हीं साक्षात्कारों को लिया गया है। जबकि अगले साक्षात्कारों को भविष्य के लिए टाल दिया गया है। पीएनबी के जीएम बीएम पादा ने इस मामले में अपनी अनभिज्ञता जताई है।

Post Author: SAURABH BHARDWAJ

मशहूर पत्रकार सौरभ भारद्वाज पिछले लगभग दो दशक से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं। हिंदुस्तान, दैनिक जागरण, नवभारत टाइम्स जैसे मीडिया संस्थानों में प्रतिष्ठित पदों पर काम करने के बाद श्री भारद्वाज अब वीओएफ मीडिया के समूह संपादक के रूप में जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। राष्ट्रीय युवा पुरस्कार विजेता श्री भारद्वाज अनेक सामाजिक संगठनों के साथ भी जुड़े हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *