बेहतर भविष्य का द्वार खोलती है शिक्षा : राणा

शिक्षा के बिना आदर्श समाज की कल्पना बेमानी: प्रदीप राणा
फरीदाबाद। सामाजिक कार्यकर्ता प्रदीप राणा ने कहा कि शिक्षा बेहतर भविष्य का द्वार खोलती है। इससे ही आदर्श व सभ्य समाज का निर्माण होता है। आज जो छात्र छात्रवृत्ति प्राप्त कर रहे हैं। उन्हें भी आज यह संकल्प करना चाहिए कि जब वे भी क्षमतावान होंगे तो वे अन्य जरूरतमंदों की शिक्षा की व्यवस्था में अपना भी महत्वपूर्ण योगदान देेेंगे।
वे दिल्ली-मथुरा रोड स्थित एक होटल में आदर्श समाज सहयोग समिति द्वारा आर्थिक रूप से पिछड़े व मेधावी छात्रों के छात्रवृति वितरण व आदर्श अध्यापक अलंकरण समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि जहां चाह, वहां राह। उक्त संस्था इसी राह पर चल रही है। 1990 से यह संस्था जरूरतमंदों के लिए काम कर रही है। टेक्रोफैब इंडस्ट्रीज के चेयरमैन श्याम सुंदर शर्मा ने कहा कि समाज के प्रति संवेदनशीलता जरूरी है। सभी को चाहिए कि वे अपने सामाजिक उत्तरदायित्वों का निर्वहन जरूर करें।
अनुशासन व संस्कार ही एक छात्र की पूँजी होती है
हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष अखिल भारतीय ब्राह्मण महासंघ तेजप्रकाश भारद्वाज ने कहा कि सभी को अपने माता-पिता का आदर करना चाहिए। अनुशासन व संस्कार ही एक छात्र की पूँजी होती है। महिला उद्यमी मीना पांडेय ने छात्रों को सफल होने के गुर सिखाए। उन्होंने कहा कि सफलता के जरूरी है लक्ष्य स्पष्ट होना। जो भी करें, उसे पूरे मनोयोग से करें, तब सफलता निश्चित है। कार्यक्रम में आए हुए अतिथियों का स्वागत संस्था के संरक्षक के बी दूबे और डॉ. एस पी दूबे ने किया।
इस अवसर पर शिक्षा के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए शांति, नरेंद्र कुमार और सुनीता को बेहतर शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर कुलदीप अरोड़ा, अनिल खोसला, उमेश श्रीवास्तव, सुभाष कौशिक, मामचंद्र, मीना पांडेय, राघव पांडेय, आर सी शर्मा, रामवीर गौड़, शर्माजीत शर्मा, रामफल शर्मा, प्रोफेसर आर एन सिंह, डी एन मिश्रा, गौरव मेहता, रविप्रकाश दूबे, राजेंद्र अरोड़ा, नरेंद्र शर्मा, धनंजय कुमार, राजेंद्र भड़ाना, नरेंद्र भाटी आदि उपस्थित थे।

Post Author: VOF Media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *