वायदाखिलाफी से नाराज प्रदेश कर्मचारियों ने किया राज्यव्यापी हड़ताल का आह्वान

फरीदाबाद । कर्मचारियों के प्रति प्रदेश सरकार की वायदाखिलाफी के विरोध में हरियाणा कर्मचारी महासंघ फरीदाबाद की जिला कार्यकारिणी कमेटी की मीटिंग कर्मचारी महासंघ के कार्यालय जनस्वास्थ्य विभाग सेक्टर-11 पर हरियाणा कर्मचारी महासंघ के जिला प्रधान महेन्दर सिंह की अध्यक्षता में की गई । जिसमे जिले के कई विभागों के कर्मचारी प्रतिनिधियों ने भाग लिया।

कर्मचारी नेताओं में बिजली बोर्ड से मीटिंग में उपस्थित रहे महासंघ के चेयरमैन सुनील खटाना व सर्कल सचिव सन्तराम लाम्बा ने बताया कि प्रदेश के लाखों कर्मचारियों की मांगों को यह सरकार देने के नाम पर सिर्फ टरकाने का काम करती आई है और शुरू से ही जब से सत्ताआसीन हुई है तब से अब तक गोलमोल बाते कर कर्मचारियों से बरगलाने का ही वायदा किया है ना कि उसे धरातल पर पूरा करने में सक्षम दिखी । अपने संघर्ष के चलते काफी लम्बे समय से कर्मचारियों की जायज मांगों को प्रदेश सरकार के सम्मुख रख समय समय उठाया गया लेकिन हर बार सरकार ने सिर्फ झूठा आश्वासन ही दिया इसके अलावा और कुछ नही जिससे आक्रोशित प्रदेश का आज समस्त कर्मचारी वर्ग रोष में है । व सरकार के विरुद्ध एक निर्णायक आंदोलन करने के लिये मजबूर है ।

मांगों को पूरा करने की मांग की

हरियाणा कर्मचारी महासंघ के जिला प्रेस प्रवक्ता लेखराज चौधरी ने कहा कि हरियाणा कर्मचारी महासंघ दवारा पूर्व में घोषित कर्मचारियों की जायज मांगों को पूरा न करते हुए संगठन के साथ जो धोखाधड़ी की है उससे सरकार अपने आगामी चुनाव में एक ताबूत में कील ठोकने का काम कर रही है क्योंकि पहले भी जिस भी सरकार ने कर्मचारियों से पंगा लिया वह दुबारा से सत्तासीन नही हो पाई इसीलिये सरकार को आगाह किया जाता है कि कर्मचारियों की जायज मांगों को गौर करते हुए हरियाणा कर्मचारी महासंघ के शीर्ष नेतृत्व को बुलाकर इन जायज मांगों को पूरा करने का काम करे ।

पूर्व में किये गए आंदोलनों को देखते हुए सरकार ने हरियाणा कर्मचारी महासंघ की 20 फरवरी 2018 की प्रदेशव्यापी हड़ताल को न करने को लेकर की गई अपील में सरकार के प्रतिनिधिमंडल व सरकार के उच्चाधिकारियों ने हरियाणा कर्मचारी महासंघ के शीर्ष नेतृत्व के नेताओं को आश्वासन देकर आश्वस्त किया था कि कर्मचारियों की इन मांगों को जल्द ही समय रहते पूरा किया जायेगा लेकिन आज तक सरकार ने अपने द्वारा मानी हुई उन मांगों को लेकर उस वायदे को अनदेखा किया गया ।

मांगों को लेकर प्रदेश का कर्मचारी आक्रोशित हैं

वायदाखिलाफी के चलते प्रदेश का कर्मचारी आज आंदोलनरत है व हरियाणा कर्मचारी महासंघ एक बार फिर से सरकार की वायदाखिलाफी से खफा होकर प्रदेश में पुनह 21 अगस्त 2018 को प्रदेश का चक्का जाम करने में बढ़चढ़ कर भाग लेंगें व सरकार को मुँहतोड़ जवाब देने में प्रदेश के लाखों कर्मचारियों से इस हड़ताल को सफल बनाने का आव्हान कर बिगुल फूँक दिया है।

उन्होंने कहा है कि इस बार सरकार से किसी प्रकार का झूठा आश्वासन नही चाहिये बल्कि प्रदेश के कर्मचारियों को उनका हक चाहिये जिन्हें प्रादेशिक सरकार जल्द लागू करे अन्यथा अपने अड़ियल रवैये के चलते इस हड़ताल से किसी भी प्रकार की औद्योगिक अशांति भँग होती है उसके लिये सरकार जिम्मेदार होगी व माँगें पूरी ना होने तक यह हड़ताल एक दिन की ना रहकर अनिश्चितकालीन में भी तब्दील हो सकती है । क्योंकि कर्मचारी सरकार के झूठे वायदों से त्रस्त है और पीछे हटने को तैयार नही ।

महासंघ द्वारा अनेक सूत्रीय मांगों में से मुख्य माँग प्रदेश के कर्मचारियों को समान काम समान वेतनमान देना, मेडिकल कैशलेस पॉलिसी, जोखिम भत्ता, पुरानी पेंशन पॉलिसी को पुनः लागू करना, कच्चे कर्मचारियों को पक्का करना, आंगनवाड़ी व आशा वर्करों की स्थाई भर्ती कर नियुक्ति की जाए, परिवहन विभाग के बेड़े में बसों की संख्या बढ़ाया जाना, जिन बोर्डों, निगमों को सातवें वेतन का लाभ नही मिला उन्हें जनवरी 2016 से लाभ देने, शिक्षा बोर्ड कर्मियों को सचिवालय के समान वेतनमान देने आदि कई मांगों को लेकर प्रदेश का कर्मचारी आक्रोशित हैं और हड़ताल करने का फैसला लिया ।

 21 अगस्त को राज्यव्यापी हड़ताल

इस राज्यव्यापी हड़ताल में निगमों, ब्लाकों, बोर्डों के साथ आबकारी व कराधान विभाग, तहसील, नगर निकाय, निगम व नगर पालिका, बिजली विभाग, जनस्वास्थ्य विभाग, हरियाणा रोडवेज, शिक्षा, बिजली, पानी, आदि कई विभाग पूर्णरूप से हड़ताल पर रहेंगे व अनेकों विभागों में हड़ताल को सफल बनाने के लिये कर्मचारियों ने कमर कसी व बतौर कर्मचारी नेताओं को ड्यूटी सौंपी गई और कहा गया कि भाजपा सरकार के इस कर्मचारी विरोधी चेहरे के नकाब को उतारने में आमजन के सहयोग के साथ साथ सभी प्रधान व सचिव कर्मचारियों तक अपनी बात को लेकर प्रत्येक विभाग में मीटिंग कर 21 अगस्त की हड़ताल को सफल बनाने में जुट जायें ।

इस अवसर पर कर्मचारी नेताओं सहित जयभगवान अंतिल, रामसरन, योगेश, बजरंगलाल जांगड़ा, ओमप्रकाश, कर्मवीर यादव, रामनिवास, मदनगोपाल,थानसिंह, पन्नालाल, दयानन्द पांचाल, खुर्शीद, हनीफ खान, लक्ष्मण, आजम खान, विजय, मोहरपाल, आदि ने मौजूद रहकर हड़ताल की कामयाबी में दिशानिर्देश लिये ।

 

 

Post Author: VOF Media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *