सब गोलमाल है

सौरभ भारद्वाज
चंडीगढ़

पीएनबी के भ्रष्ट अधिकारी जो फिलहाल डेप्युटेशन पर सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक में काम कर रहे हैं भ्रष्टाचार के नित्य नूतन रेकॉर्ड स्थापित कर रहे हैं। शीतला माता मंदिर ब्रांच गुरुग्राम में बिमला देवी पत्नी लाला राम को दिए गए दस करोड़ रुपये के लोन का मामला हमने आपको बताया ही था। अब इस मामले में कुछ और नए तथ्य सामने आए हैं और ये तथ्य लोन की संस्तुति देने वाले तत् कालीन चेयरमैन डॉ.एम.पी.सिंह, जनरल मैनेजर बीके सिंह और जनरल मैनेजर राजेश गोयल की करतूतों की बड़ी मिसाल है।

नियमों को ताक पर रखकर

हम आपको फिर से बता दें कि जीनियस फाइनेंस कंपनी के पास गुरुग्राम डीएलएफ की एक प्रॉपर्टी जिसकी मालकिन बिमला देवी थीं 13,36,73178 रुपये के लिए गिरवी पड़ी थी और कंपनी इसके लिए 24 प्रतिशत सालाना की दर पर ब्याज वसूल रही थी। संपत्ति की एवज में लिया गया यह लोन सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक के भ्रष्ट अधिकारियों ने तमाम नियमों को ताक पर रखकर बिमला देवी को सालाना लगभग डेढ़ करोड़ रुपये का लाभ पहुंचाने की नियत से 8.55 प्रतिशत सालाना की दर से टेकओवर कर लिया। यह लोन एगेंस्ट प्रॉपर्टी था। जो किसी भी सूरत में होम लोन में परिवर्तित नहीं हो सकता था।

बारबार बदला किरायानामा

बिमला देवी या उनके गारंटरों की इतनी आय नहीं थी कि बैंक के कागजों को संतुष्ट किया जा सके। इसके बाद एक नया घोटाला किया गया। जिस संपत्ति पर लोन दिखाया गया उस संपत्ति का किराया नामा बनाया गया और लगभग 3 लाख रुपये महीने का किराया दिखाया गया। इसके बाद बात नहीं बनी तो उसी संपत्ति पर लगभग 6 लाख रुपये प्रतिमाह का किराया दिखाया गया। इसके बाद भी कमी रह गई तो लगभग दस लाख रुपये का किरायानामा दिखाया गया। मजेदार बात यह कि यह तीनों किराएनामे एक ही स्टांप पेपर पर बने और यह स्टांप पेपर 13 नवंबर 2017 को खरीदा गया। जबकि यह तीनों किराएनामे 29 मार्च 2017, 1 नवंबर 2017 और 1 नवंबर 2017 को ही बनाए गए।

प्रॉसेस नोट में ये सारी बातें स्पष्ट रूप से बताई

इससे भी मजेदार यह कि जिस कंपनी ने दस लाख रुपये महीने की संपत्ति किराए पर ली उसकी पिछले तीन साल से सालाना आय महज 20 लाख रुपये है। इससे भी ज्यादा मजेदार यह कि बिमला देवी के पास उस संपत्ति का आज तक कंपलीशन नहीं है। शायद यही वजह रही कि किरायानामा रजिस्टर्ड नहीं था। ऐसा नहीं है कि बैंक के आला अधिकारियों को इसकी खबर नहीं थी। बाकायदा प्रॉसेस नोट में ये सारी बातें स्पष्ट रूप से बताई गई थीं।

 बैंक के भ्रष्ट अधिकारियों के कारण बैंक की साख को बट्टा लगा है। हाल ही में सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक के जनरल मैनेजर रहे शैलेश रंजन पर भी सीबीआई का छापा पड़ चुका है। ऐसे ही इन भ्रष्ट अधिकारियों की जांच भी अगर किसी निष्पक्ष एजेंसी से कराई जाए तो एक करोड़ रुपये से ज्यादा के जो भी लोन किए गए हैं उनकी निष्पक्ष जांच हो साथ ही 2013 से बैंक के लिए की गई खरीद की भी जांच हो। बहुत सारे घोटाले खुलकर सामने आएंगे।

मुकेश जोशी
चीफ कोर्डिनेटर, 
गुडग़ांव ग्रामीण बैंक वक्र्स ऑर्गेनाईजेशन व 
सर्व हरियाणा ग्रामीण बैंक, ऑफिसर्स ऑर्गेनाईजेशन
9810347532

Post Author: SAURABH BHARDWAJ

मशहूर पत्रकार सौरभ भारद्वाज पिछले लगभग दो दशक से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं। हिंदुस्तान, दैनिक जागरण, नवभारत टाइम्स जैसे मीडिया संस्थानों में प्रतिष्ठित पदों पर काम करने के बाद श्री भारद्वाज अब वीओएफ मीडिया के समूह संपादक के रूप में जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। राष्ट्रीय युवा पुरस्कार विजेता श्री भारद्वाज अनेक सामाजिक संगठनों के साथ भी जुड़े हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *